Tue, Jul 5, 2022
Updated 5:57 pm IST
Updated 5:57 pm IST
news
उत्तर प्रदेश
Published on : Jan 3, 2022, 12:09 PM
By : Bureau

क्या योगी के सहारे अपनी बादशाहत बचाएंगे राजा भैया , राजनीतिक गलियारों में सरगर्मी हुई तेज

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के 403 विधानसभा सीटों में से एक हैं कुंडा विधानसभा सीट, जहां रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया की बादशाहत पिछले 30 सालों से चली आ रही हैं।  हालांकि चुनाव के नजदीक आते ही बड़ा सवाल खड़ा होने लगा हैं और राजनीतिक गलियारों में चर्चा भी काफी तेज हो गयी हैं कि राजा भैया का भविष्य किस ओर जायेगा।  यहीं नहीं उनके पार्टी का भविष्य क्या होगा।  जो कार्यकर्ता बड़े ही उम्मीद के  साथ तैयारिओं में जुटे हैं उनका क्या होगा।   

चुनाव पूर्व 100 सीटों  पर चुनाव लड़ने का वादा करने वाले राजा भैया अब समझ गए हैं कि बिना योगी के आशीर्वाद से उनकी नैया पार नहीं होने वाली हैं।  क्योंकि उत्तर प्रदेश के राजनितिक हालातों को ध्यान में रखे तो यह साफ़ हैं किसी भी छोटे दलों को जीत तभी मिली हैं, जब उनका गठबंधन किसी बड़े राजनीतिक दलों के साथ हुआ हो।  ऐसे में राजा भैया अपनी सीट तो निकाल सकते हैं, लेकिन बाकी के बचे सीटों पर जीतना काफी मुश्किल होगा।  ऐसे में बड़ा सवाल उठने लगा हैं कि राजा भैया किसकी अंगुली पकड़ कर चुनाव में उतरेंगे।  

हम आपको बता दे कि राजा भैया के पास कुछ जिलों में ठाकुर जातियों का बढ़िया वोट हैं, हलांकि एक जातियों के वोट से कोई भी दल चुनाव नहीं जीत सकती हैं। जातिगत समीकरण के मुताबिक बसपा के पास दलित समुदाय , सपा के पास यादवों का और राजा भैया के पास ठाकुरों का वोट हैं और शायद यही कारण हैं कि राजा भैया के नाम पर दलों को प्रतापगढ़ के बाहर मुश्किलों का सामना करना पर सकता हैं।  

अखिलेश से पहले ही कर चुके हैं दुश्मनी का एलान 

सियासत में सभी दलों के पास कई विकल्प होते हैं लेकिन राजा भैया के पास एक परेशानी हैं और वह हैं खुल कर दोस्ती  और खुल कर दुश्मनी। और शायद यहीं कारण हैं कि राजा भैया ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ खुल कर दुश्मनी का एलान कर दिया हैं।  राजा भैया मायावती के साथ जा नहीं सकते है और कांग्रेस से उनकी कोई ज्यादा बनती हैं।  ऐसे में अब उनके पास एक ही विकल्प हैं जिससे वह हाथ मिला कर वह अपनी बादशाहत और अपने पार्टी के वजूद को बचाने की कोशिश करेंगे और वह दल हैं भाजपा।  

राजा भैया अखिलेश और मुलायम सिंह यादव के सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं लेकिन 2018 में हुए राज्यसभा चुनाव के दौरान अखिलेश यादव और राजा भैया के बीच कुछ अनबन हुई और दोनों के रिश्ते में दरार आ गयी।  और यही वह समय था जब राजा भैया ने खुद की पार्टी बनायीं थी और उसका नाम रखा था जनसत्ता दल लोकतान्त्रिक। राजनितिक पंडितों के मुताबिक राजा भैया ने अपनी पार्टी का गठन भाजपा के आशीर्वाद से ही बनायीं थी। दरअसल, भाजपा चाहती थी कि राजा भैया उत्तर प्रदेश के उन विधानसभा सीटों पर अपनी जीत दर्ज करें जहाँ राजपूतों की संख्या काफी ज्यादा हैं।  इसके पीछे भाजपा की मंशा थी कि अगर चुनाव के पश्चात भाजपा को कुछ विधायकों की जरूरत पड़ी तो राजा भैया का समर्थन आसानी से मिल सकता हैं।  

हालांकि राजा भैया को यह मालूम हैं कि उनकी जीत राजपूतों के वोटों से नहीं बल्कि यादवों और मुस्लिमों के वोट से होती हैं। इसी वजह से राजा भैया एक तरफ जहां अखिलेश को अपना दुश्मन मानते हैं वहीं मुलायम सिंह यादव को आज भी झुक कर प्रणाम करते हैं। राजा भैया ऐसा इसलिए करते है क्योंकि वह नहीं हैं चाहते कि यादव और मुस्लिम वोटर्स को नाराज किया जाए।  समीकरण के मुताबिक अगर सपा कुंडा विधानसभा सीट से किसी मुस्लिम या यादव उम्मीदवार को मैदान में उतार दे तो राजा भैया के लिए खतरे की घंटी बज सकती हैं।  ऐसे में राजा भैया चुनाव से पूर्व बड़े ही सोच समझ कदम उठा रहे हैं ताकि तीन दसकों की बादशाहत मिनटों में ना खतम हो जाये।  

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार

image

देश

कृषि कानून के वापसी से चुनावी राज्य में बदलेगा सियासी समीकरण, भाजपा को मिल सकता हैं बड़ा फायदा

नई दिल्ली: देश के पांच राज्यों में अगले दो से ढाई महीने के बीच विधानसभा चुनाव होने हैं। विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सभी राजनीतिक दलों ने अपने - अपने हिसाब से अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।&nb

image

देश

अन्नदाताओं के सामने पहले भी झुकी हैं मोदी सरकार, 2015 में भी वापस लेना पड़ा था कानून

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 19 नवंबर को राष्ट्र के नाम संबोधन में सरकार के द्वारा लाये गए तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया।  इस दौरान उन्होंने कहा कि शीतकालीन सत्र के द

image

उत्तर प्रदेश

क्या योगी के सहारे अपनी बादशाहत बचाएंगे राजा भैया , राजनीतिक गलियारों में सरगर्मी हुई तेज

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के 403 विधानसभा सीटों में से एक हैं कुंडा विधानसभा सीट, जहां रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया की बादशाहत पिछले 30 सालों से चली आ रही हैं।  हालांकि चुनाव के नजदीक आते ही बड़ा सव