Thu, Jan 27, 2022
Updated 11:04 am IST
Updated 11:04 am IST

भाजपा ने कांग्रेस और सपा को दिया झटका, सपा के दो और कांग्रेस के एक विधायक पार्टी में हुए शामिल

Published on : Jan 12, 2022, 13:58 PM
By : Bureau
news

HIGHLIGHTS

  • सिरसागंज से समाजवादी पार्टी के विधायक हरिओम यादव BJP में शामिल हो गए हैं
  • सपा के पूर्व विधायक धर्मपाल यादव भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं
  • स्वामी प्रसाद मौर्य फुके हुए कारतूस- हरिओम यादव

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चुनावी घोषणा होने के तुरंत बाद ही दल बदल के प्रक्रिया की शुरूआत हो गयी हैं।  एक तरफ जहां मंगलवार को सपा ने भाजपा को एक बड़ा झटका दिया था वही आज भाजपा ने उस झटके का बदला ले लिया हैं। सिरसागंज से समाजवादी पार्टी के विधायक हरिओम यादव और सपा के पूर्व विधायक धर्मपाल यादव भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं वही इमरान मसूद के करीबी और सहारनपुर जनपद के बेहट से कांग्रेस विधायक नरेश सैनी ने भी आज राष्ट्रीय कार्यालय दिल्ली में भाजपा का दामन थाम लिया।  इस मौके पर यूपी बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह के साथ दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और दिनेश शर्मा मौजूद रहे।  

स्वामी प्रसाद मौर्य फुके हुए कारतूस- हरिओम यादव

हरिओम यादव ने इस दौरान कहा कि स्वामी प्रसाद मौर्य फुके हुए कारतूस हैं और उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि बिना शर्त के बीजेपी ज्वाइन की है. पार्टी को मजबूत करेंगे रामगोपाल यादव जैसे लोगों के होने से सपा अब खत्म हो रही है। वहीं नरेश सैनी ने कहा कि बीजेपी की नीतियों से प्रभावित हो कर बीजेपी ज्वाइन की है। सीएम योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व से प्रभावित होकर पार्टी में शामिल हुए हैं। उन्होंने कहा कि सपा में मेरे जाने की अफवाह थी लेकिन मैं जा नहीं रह था। 

उत्तर प्रदेश में तेज हुआ नेताओं का दल-बदल

विधानसभा चुनावों के ऐलान के साथ ही उत्तर प्रदेश में की सियासत में काफी गहमागहमी देखने को मिली है। नेताओं का दल बदल का दौर भी जोरों पर हैं। हाल ही में योगी सरकार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने मंत्रीपद और बीजेपी छोड़ी है। वो सपा में जा रहे हैं, मौर्य के साथ कुछ और बीजेपी विधायकों के भी सपा में जाने की चर्चा है। सहारनपुर के चर्चिच नेताओं में शुमार इमरान मसूद भी कांग्रेस छोड़ सपा में जाने का ऐलान कर चुके हैं। इनके अलावा भी कई नेताओं ने हाल के दिनों में सियासी पाला बदला है। 

गौरतलब हो कि उत्तर प्रदेश में 403 विधानसभा सीटों पर 10 फरवरी से 7 मार्च तक सात चरणों में मतदान होना है। राज्य में पहले चरण के लिए 10 फरवरी को वोटिंग होगी। इसके बाद 14 फरवरी को दूसरा चरण, 20 फरवरी को तीसरा, 23 फरवरी को चौथा, 27 फरवरी को पांचवा, 03 मार्च को छठा और 07 मार्च को सातवें और आखिरी चरण का मतदान होगा। इसके बाद 10 मार्च को वोटों की गिनती होगी और नतीजों का ऐलान किया जाएगा।

INSIDE STORY
image

स्पेशल रिपोर्ट

चीन का वुहान: जहां से शुरू हुआ कोरोना का कहर

पटना >>>>>>> वुहान शहर का नाम भले हीं चीन के बीजिंग या शंघाई जैसे शहरों के तौर पर नहीं लिया जाता है, लेकिन दुनिया के नक्शे पर अपना वजूद रखने वाले इस शहर का नाम कोरोना वायरस को लेक

image

देश

आखिर क्यों जरूरी है लॉकडाउन बढाना?

पटना: कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग का ऐलान करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की थी। यह अवधि आगामी 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। लोगों के मन एक सवाल उठ रहा है कि क्या 15 अप्रै

image

बिहार

बिहार में पूर्ण शराबबंदी ! सिर्फ एक ढकोसला.....

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले हीं इस बात का डंका बजा रहे हों कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी है। शराब के मामले में कोई समझौता नहीं करेंगे। लेकिन स्थिति बद से बदतर है। शराब माफियाओं का दबदबा पूरे बिहार

image

देश

कृषि कानून के वापसी से चुनावी राज्य में बदलेगा सियासी समीकरण, भाजपा को मिल सकता हैं बड़ा फायदा

नई दिल्ली: देश के पांच राज्यों में अगले दो से ढाई महीने के बीच विधानसभा चुनाव होने हैं। विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सभी राजनीतिक दलों ने अपने - अपने हिसाब से अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं।&nb

image

देश

अन्नदाताओं के सामने पहले भी झुकी हैं मोदी सरकार, 2015 में भी वापस लेना पड़ा था कानून

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 19 नवंबर को राष्ट्र के नाम संबोधन में सरकार के द्वारा लाये गए तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया।  इस दौरान उन्होंने कहा कि शीतकालीन सत्र के द

image

उत्तर प्रदेश

क्या योगी के सहारे अपनी बादशाहत बचाएंगे राजा भैया , राजनीतिक गलियारों में सरगर्मी हुई तेज

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के 403 विधानसभा सीटों में से एक हैं कुंडा विधानसभा सीट, जहां रघुराज प्रताप सिंह उर्फ़ राजा भैया की बादशाहत पिछले 30 सालों से चली आ रही हैं।  हालांकि चुनाव के नजदीक आते ही बड़ा सव